Mantras



सरल शनि मंत्र व स्तोत्र






(1) सूर्यपुत्रो दीर्घदेहो विशालाक्षः शिवप्रियः मंदचार प्रसन्नात्मा पीड़ां हरतु में शनिः (2) नीलांजन समाभासं रवि पुत्रां यमाग्रजं। छाया मार्तण्डसंभूतं तं नामामि शनैश्चरम्।। (3) प्रां प्रीं प्रौं सः शनैश्चराय नमः (4) ओम शं शनैश्चराय नमः। ध्वजिनी धामिनी चैव कंकाली कलहप्रिया। कण्टकी कलही चाऽथ तुरंगी महिषी अजा।। शं शनैश्चराय नमः। (5) ओम…




संकटमोचक हनुमान अष्टक: हर आफत का है अचूक तोड़






धर्मआस्था है कि श्रीहनुमान का नाम लेने से ही संकट कट जाते हैं। दरअसल, श्री हनुमान शिव का अवतार होने से कल्याणकारी शक्तियों के स्वामी भी हैं। यही वजह है कि उनके स्मरण या भक्ति बुरी वृत्तियों, विचारों और कर्म से दूर कर पावन बुद्धि, चेष्टा से जोड़ती है, जिससे…




Shri Surya Chali






श्री सूर्य चालीसा दोहा कनक बदन कुण्डल मकर, मुक्ता माला अंग। पद्मासन स्थित ध्याइये, शंख चक्र के संग।। चौपाई जय सविता जय जयति दिवाकर, सहस्रांशु सप्ताश्व तिमिरहर। भानु, पतंग, मरीची, भास्कर, सविता, हंस, सुनूर, विभाकर। विवस्वान, आदित्य, विकर्तन, मार्तण्ड, हरिरूप, विरोचन। अम्बरमणि, खग, रवि कहलाते, वेद हिरण्यगर्भ कह गाते। सहस्रांशु,…




Sankat Mochak Hanuman Ashtak – संकट मोचक हनुमान अष्टक






जब मनुष्य चौतरफा संकटों से घिर जाता है, उनसे निकलने का रास्ता तलाशने में वह विफल हो जाता है तब हनुमान जी की उपासना से बहुत लाभ मिलता है। विशेष रूप से उस समय संकट मोचक हनुमान अष्टक का पाठ बहुत उपयोगी व सहायक सिद्ध होता है। अंजनी गर्भ संभूतो,…




%d bloggers like this: